नेटवर्क टोपोलॉजी (Network Topology) नेटवर्क के विभिन्न नोड (Node) या टर्मिनल्स को आपस में जोड़ने का तरीका है। यह नेटवर्क की भौतिक संरचना को बताता है। नेटवर्क के विभिन्न नोड किस प्रकार एक दुसरे से जुड़े होते है तथा कैसे एक दुसरे के साथ कम्युनिकेशन स्थापित करते है, उस नेटवर्क को टोपोलॉजी ही निर्धारित करता है टोपोलॉजी फिजिकल या लौजिकल होता है| Computers को आपस में जोडने एवं उसमें डाटा Flow की विधि टोपोलाॅजी कहलाती है। टोपोलॉजी किसी नेटवर्क में कम्प्यूटर के ज्यामिति व्यवस्था (Geometric arrangement) को कहते है। 

टोपोलॉजी के प्रकार (Types of topology)

  1. स्टार टोपोलॉजी (Star Topology)
  2. बस टोपोलॉजी (Bus Topology)
  3. रिंग टोपोलॉजी (Ring Topology)
  4. मेश टोपोलॉजी (Mesh Topology)
  5. ट्री टोपोलॉजी (Tree Topology)

स्टार टोपोलॉजी (Star Topology)

स्टार टोपोलॉजी (Star Topology) में किसी एक नोड को होस्ट नोड या केन्द्रीय हब (Host node or Central Hub) का दर्जा दिया जाता है। अन्य कम्प्यूटर या नोड आपस में केंद्रीय हब द्वारा ही जुड़े रहते हैं। इसमें विभिन्न नोड या टर्मिनल आपस में सीधा संपर्क न करके होस्ट कम्प्यूटर द्वारा संपर्क स्थापित करते हैं। इसमें n नोड को आपस में जोड़ने के लिए n-1 संचार लाइनों की जरूरत पड़ती है।

Star Topology लाभ :

  • किसी एक नोड या केबल में त्रुटि से नेटवर्क का शेष हिस्सा अप्रभावित रहता है। नया नोड जोड़ने का नेटवर्क पर प्रभाव नहीं पड़ता है।
  • इस नेटवर्क टोपोलॉजी में एक कम्प्यूटर से होस्ट (Host) कम्प्यूटर को जोड़ने में लाइन बिछाने की लागत कम आती है|
  • इसमें लोकल कम्प्यूटर की संख्या बढाये जाने पर एक कम्प्यूटर से दुसरे कम्प्यूटर पर सूचनाओ के आदान-प्रदान की गति प्रभावित नही होती है, इसके कार्य करने की गति कम हो जाती है क्योकि दो कम्प्यूटर के बीच केवल होस्ट (Host) कम्प्यूटर ही होता है|
  • यदि कोई लोकल कम्प्यूटर ख़राब होता है तो शेष नेटवर्क इससे प्रभावित नही होता है|

Star Topology हानि :

  • यह पूरा तंत्र होस्ट कम्प्यूटर पर निर्भर होता है | यदि होस्ट कम्प्यूटर ख़राब हो जाय तो पूरा का पूरा नेटवर्क फेल हो जाता हैं

बस टोपोलॉजी (Bus Topology)

बस टोपोलॉजी (Bus Topology) एक केबल, जिसे ट्रांसमिशन लाइन (Transmission line) कहा जाता है, के जरिये सारे नोड जुड़े रहते हैं। किसी एक स्टेशन द्वारा संचारित डाटा सभी नोड्स द्वारा ग्रहण किये जा सकते हैं। इस कारण इसे ब्रॉडकास्ट नेटवर्क (Broadcast Network) भी कहते हैं। डाटा को पैकेट में भेजा जाता है जिसमें विशेष एड्रेस रहता है। कम्प्यूटर नोड्स इस एड्रेस को पढ़कर अपने लिए बने डाटा को ग्रहण करते हैं। लैन (LAN) में मुख्यतः यही टोपोलॉजी प्रयोग की जाती है। बस टोपोलॉजी में सामान्यतः Ethernet प्रोटोकाल का प्रयोग किया जाता है।

बस टोपोलॉजी (Bus Topology) का लाभ 

इसमें कम केबल की आवश्यकता पड़ती है। अतः खर्च कम पड़ता है। किसी एक कम्प्यूटर में त्रुटि होने पर पूरा नेटवर्क प्रभावित नहीं होता। नया नोड जोड़ना आसान है।

बस टोपोलॉजी (Bus Topology) की हानि 

ट्रांसमिशन लाइन में त्रुटि होने पर सारा नेटवर्क प्रभावित होता है। इसमें एक बार में केवल एक ही नोड डाटा संचारित कर सकता है। प्रत्येक नोड को विशेष हार्डवेयर की आवश्यकता पड़ती है। 

रिंग टोपोलॉजी (Ring Topology)

रिंग टोपोलॉजी (Ring Topology) में सभी नोड एक दूसरे से रिंग या लूप (Ring or Loop) में जुड़े होते हैं। बस टोपोलॉजी के दो अंत बिन्दुओं को जोड़ देने से रिंग टोपोलॉजी का निर्माण होता है। प्रत्येक नोड अपने निकटतम नोड से डाटा प्राप्त करता है। अगर वह डाटा उसके लिए है तो वह उसका उपयोग करता है, अन्यथा उसे अगले नोड को भेज देता है। प्रत्येक नोड के साथ रिपीटर (Repeater) लगा रहता है जो सूचनाओं को पुनः प्रेषित कर सकता है। इसमें सूचनाओं का संचरण एक ही दिशा में होता है।

रिंग टोपोलॉजी (Ring Topology) का लाभ 

केंद्रीय कम्प्यूटर की आवश्यकता नहीं पड़ती। दो कम्प्यूटरों के बीच केबल में त्रुटि से दूसरे मार्ग द्वारा संचार संभव हो पाता है।

रिंग टोपोलॉजी (Ring Topology) की हानि 

संचार की गति नेटवर्क में लगे कम्प्यूटरों की तथा संरचना से प्रभावित होती है। किसी एक स्थान पर रिपीटा त्रुटि होने पर पूरा नेटवर्क प्रभावित होता है। इसके संचालन मेंबर साफ्टवेयर की आवश्यकता होती है। 

मेश टोपोलॉजी (Mesh Topology)

मेश टोपोलॉजी (Mesh Topology) में प्रत्येक नोड डाटा स्थानान्तरण करता है तथा डाटा संचार में सहायक होता है। इसमें कोई होस्ट या केंद्रीय कर नहीं होता। मेश नेटवर्क टोपोलॉजी दो प्रकार का हो सकता है मेश टोपोलॉजी तथा आंशिक मेश टोपोलॉजी। पूर्ण मेश टोपोलॉजी (Full Mesh Topology) में प्रत्येक नोड नेटवर्क के अन्य सभी नोड से जुड़ा होता है। इस टोपोलॉजी का प्रयोग बैकबोन नेटवर्क के निर्माण में किया जाता है। प्रत्येक नोड अपना डाटा भेजने के अलावा दूसरे नोड से प्राप्त डाटा भी आगे भेजने में सक्षम होता है। आंशिक मेश टोपोलॉजी (Partial Mesh Topology) में कम से कम एक नोड नेटवर्क के प्रत्येक नोड से जुड़ा होता है जबकि अन्य नोड आपस में जुड़े हो सकते हैं या नहीं भी हो सकते।

मेश टोपोलॉजी (Mesh Topology) लाभ

नेटवर्क के किसी नोड या संचार माध्यम में त्रुटि हो जाने पर भी डाटा स्थानान्तरण जारी रहता है। इसमें कई नोड एक डाटा स्थानान्तरण कर सकते हैं, अतः इस टोपोलॉजी द्वारा जे ” मात्रा में डाटा स्थानान्तरण किया जा सकता है। नेटवर्क में नया के बोड जोड़ने से डाटा का संचरण प्रभावित नहीं होता।

मेश टोपोलॉजी (Mesh Topology) की हानि

इस टोपोलॉजी के निर्माण तथा रखरखाव का खर्च अधिक होता है। परंतु वायरलेस तकनीक द्वारा मेश टोपोलॉजी का ल निर्माण अपेक्षाकृत सरल होता है।

ट्री टोपोलॉजी (Tree Topology)

ट्री टोपोलॉजी में स्टार तथा बस दोनों टोपोलॉजी के लक्षण विधमान होते है | इसमें स्टार टोपोलॉजी की तरह एक होस्ट कंप्यूटर होता है और बस टोपोलॉजी की तरह सारे कंप्यूटर एक ही केबल से जुड़े रहते हैं | यह नेटवर्क एक पेड़ के समान दिखाई देता हैं |

ट्री टोपोलॉजी (Tree Topology) का लाभ (Advantages)

  • प्रत्येक खण्ड (Segment) के लिए प्वाइन्ट तार बिछाया जाता है |
  • कई हार्डवेयर तथा साफ्टवेयर विक्रेताओ के द्वारा सपोर्ट किया जाता है |

ट्री टोपोलॉजी (Tree Topology) हानि (Disadvantages)

  • प्रत्येक खण्ड (Segment) का कुल लम्बाई प्रयोग में लाये गए तार के द्वारा सीमित होती है |
  • यदि बैकबोन लाइन टूट जाती है तो पूरा खण्ड (Segment) रुक जाता है |
  • अन्य टोपोलॉजी की अपेक्षा इसमें तार बिछाना तथा इसे कन्फीगर (Configure) करना कठिन होता है |

Network Topology निष्कर्ष

सरल शब्दों में बात करे तो टोपोलॉजी नेटवर्क की आकृति या लेआउट को कहा जाता है| इसमें Computers को आपस में जोडने एवं उसमें डाटा Flow की विधि टोपोलाॅजी कहलाती है। टोपोलॉजी पांच प्रकार की होती है| Ring, Bus, Star, Tree, Mesh Topology. रिंग टोपोलॉजी में कोई होस्ट, मुख्य या कंट्रोलिंग कम्प्यूटर नही होता | इसमें सभी कम्प्यूटर एक गोलाकार आकृति में लगे होते है| बस टोपोलॉजी (Bus Topology) में एक ही तार (Cable) का प्रयोग होता है और सभी कम्प्यूटरो को एक ही तार से एक ही क्रम में जोड़ा जाता है | स्टार टोपोलॉजी में एक होस्ट कम्प्यूटर होता है जिसे सीधे विभिन्न लोकल कंप्यूटरो से जोड़ दिया जाता है | लोकल कम्प्यूटर आपस में एक-दुसरे से नही जुड़े होते हैं| मेश टोपोलॉजी में सारे कंप्यूटर कही न कही एक दूसरे से जुड़े रहते हैं और एक दूसरे से जुड़े होने के कारण ये अपनी सूचनाओ का आदान प्रदान आसानी से कर सकते हैं | ट्री टोपोलॉजी में स्टार तथा बस दोनों टोपोलॉजी के लक्षण विधमान होते है। 

बिभिन्न नेटवर्क टोपोलॉजी के अपने लाभ और हानियां हैं। इसलिए अपनी आवश्यकतानुसार विभिन्न टोपोलॉजी का मिश्रण प्रयोग में लाया जाता है जिसे हाइब्रिड नेटवर्क (Hybrid Network) कहा जाता है। 

Pin It on Pinterest

Share This
InterServer Web Hosting and VPS

Best Hosting

Your website will load faster than ever because our servers are never overloaded. The network is route optimized. We run the server optimization and security technology